Feature StoriesKashmiri Write Up'sTrending Photo

बुतलि प्यव शबनम नूरॖन फतिये,लतिये च़ंद्रम महाराज़ द्राव। तारकव ज़ूल कोर लोलि नालमतिये,लतिये च़ंद्रम महाराज़ द्राव।।

बुतलि प्यव शबनम नूरॖन फतिये,लतिये च़ंद्रम महाराज़ द्राव।

तारकव ज़ूल कोर लोलि नालमतिये,लतिये च़ंद्रम महाराज़ द्राव।।
वेथ द्रायि वनवान फॅज संगरमालय,हटि छस मोखतयमालय नॅल।
डलॖ फोल पम्पोश लेंबि मंज़ खतिये,लतिये च़ंद्रम महाराज़ द्राव।।
पोशिनूल हरशस रोनि छस खोरनिय,जरनुय छु ज़रबाब दसतारस।।
इसबंद मुशकॖय अंद पॅख पतिये , लतिये च़ंद्रम महाराज़ द्राव।।
हूल तुल विगनेव दीव द्रायि लारान,प्रारान वुनि कोनि येनिवोल आव।
प्रवि पेय रव ज़न त्रायि शीनमतिये,लतिये च़ंद्रम महाराज़ द्राव।।
वीगिस रंग बॉर कस्तूर नाफय,साफय कोंगि रंगि गाह त्रावान ।
मंज छस पादन अथ लोल हतीये,लतिये च़ंद्रम महाराज़ द्राव।।
श्रोन गव बंगरेन रोनि दामानस,जानि जानानस वर्धन न्यूल।
पोपॖर गथ कॉर शौकि मारमतिये,लतिये च़ंद्रम महाराज़ द्राव।।
शूभवॖन बरात तारक नबसॖय,शबसॖय केंज़ खाॅस बॉर बॉर व्यूर।
वखनय करनय निराश आरकतिये,लतिये च़ंद्रम महाराज़ द्राव।
डाॅ रमेश निराश

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close